Shayad unhi ka, Bewafa poetry, Bewfa poetry
Bewfa poetry

Shayad unhi ka gham mere kam aa gaya,
Jin doston ne chor dia waqt par mujhe...


शायद उन्हीं का ग़म मेरे काम आ गया,
जिन दोस्तों ने चोर दिअ वक़्त पर मुझे...