Urdu shari, Wo jis ki sans, Bewafa shayari
Bewafa shayari


Wo jis ki sans pe tehreer thi hayat meri,
Usi ka hukum hai ab rabta nahi kana...


वो जिस की साँस पे तेहरीर थी हायत मेरी,
उसी का हुकुम है अब राब्ता नहीं काना...